सिडनी में रविवार को सीरीज बचाने का चैलेंज

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के साथ तीन वनडे की सीरीज का दूसरा मैच रविवार को खेला जाएगा। सिडनी के उसी मैदान में, जहां पहले मैच में टीम इंडिया को 66 रन की हार झेलनी पड़ी थी। पहले मैच में लय पाने के लिए संघर्ष करते रहे भारतीय गेंदबाजों को दूसरे वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना ही होगा। चूकने पर सीरीज का फैसला यहीं हो जाएगा।

पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया ने जिस तरह से भारत की कमजोरियों का फायदा उठाया, वह कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री के लिए चिंता की बात है। हार्दिक पांड्या ने ताबड़तोड़ 90 रन बनाए जरूर, लेकिन सिर्फ एक शानदार पारी से मैच नहीं जीता जा सकता। वह फिलहाल गेंदबाजी करने की स्थिति में नहीं हैं। इससे एक गेंदबाज की कमी खलती है। ऐसे में कोहली के पास वे गेंदबाज रह गए हैं जो बल्लेबाजी नहीं कर सकते और शीर्षक्रम का कोई बल्लेबाज गेंदबाजी नहीं कर सकता। इसके उलट, ऑस्ट्रेलिया के कप्तान आरोन फिंच, स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर जबर्दस्त फार्म में हैं। छठे गेंदबाज की कमी से बुमराह पर काफी दबाव आ गया है जो वनडे क्रिकेट में फार्म में नहीं दिख रहे। आईपीएल का शानदार फार्म वह पहले वनडे में दोहरा नहीं सके।

भारतीय टीम के गेंदबाजी संयोजन में किसी बदलाव की संभावना भी नहीं है, बशर्ते युजवेंद्र चहल और नवदीप सैनी दोनों अनफिट ना हों । पहले मैच में चहल और सैनी दोनों ने मिलकर 20 ओवरों में 172 रन दे डाले थे। चहल चोट के कारण अपना स्पैल पूरा करने के बाद मैदान छोड़कर चले गए। वहीं सैनी की कमर में खिंचाव आ गया है। उनके कवर के तौर पर टी नटराजन को टीम में रखा गया है। उनके बाहर होने पर शार्दुल ठाकुर को सैनी की जगह और कुलदीप यादव को चहल की जगह उतारा जा सकता है। आस्ट्रेलियाई टीम में उभरते सितारे कैमरन ग्रीन को मौका मिल सकता है, क्योंकि पहले मैच में मार्कस स्टोइनिस की बाजू में खिंचाव आ गया था।

भारत के शीर्ष क्रम के कुछ बल्लेबाजों ने गैर जिम्मेदाराना शॉट खेलकर अपने विकेट गंवाए थे। खासकर श्रेयस अय्यर ने जोश हेजलवुड की गेंद पर जो शॉट लगाया, वह गैरजरूरी था। मयंक अग्रवाल भी अतिरिक्त उछाल का सामना नहीं कर पा रहे थे। कप्तान विराट कोहली भी बड़ी पारी खेलना चाहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *