बिहार में टूट रही जय-बीरू की जोड़ी, सुशील मोदी ने राज्यसभा का परचा भरा

पटना। बिहार से राज्यसभा की खाली हुई एकमात्र सीट पर हो रहे उपचुनाव के लिए भाजपा नेता सुशील मोदी ने परचा भर दिया है। उन्होंने एनडीए प्रत्याशी के रूप में परचा भरा है। बुधवार को इस मौके पर पटना आयुक्त कार्यालय में उनके साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे। इनके अलावा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सांसद डॉ. संजय जायसवाल, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी समेत कई मंत्री भी मौजूद रहे। सुशील मोदी का निर्विरोध चुना जाना लगभग तय है। माना जा रहा है कि विपक्षी महागठबंधन राज्यसभा का उपचुनाव नहीं लड़ेगा। इसीलिए उसने अभी तक किसी प्रत्याशी के नाम का एलान नहीं किया है। वैसे नामांकन की आखिरी तारीख तीन दिसंबर है। चार दिसंबर को नामांकन पत्रों की समीक्षा होगी। नौ को नाम वापसी की तिथि है। अगर किसी और ने परचा भर दिया तो 14 दिसंबर को मतदान और मतगणना होगी। हालांकि राजद ने लोजपा को रामविलास पासवान की पत्नी रीना पासवान को उम्मीदवार बनाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन चिराग पासवान ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया। बता दें कि राज्यसभा की यह सीट लोजपा के संस्थापक नेता रामविलास पासवान के निधन से ही खाली हुई है।

बहरहाल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को यह जाहिर कर ही दिया कि सुशील कुमार मोदी का बिहार छोड़ दिल्ली जाना उन्हें पसंद नहीं है। गौरतलब है कि नीतीश कुमार और सुशील मोदी को बिहार में शोले फिल्म की जय-बीरू जैसी जोड़ी कहा जाता रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोगों ने एक साथ काम किया था। हमलोगों की इच्छा भी जगजाहिर है। फिर भी उनकी पार्टी ने फैसला लिया तो अब क्या किया जा सकता है। पार्टी का अपना फैसला होता है। इनको पार्टी दिल्ली ले जाना चाह रही है तो यह खुशी की बात है। एनडीए के चारों दलों ने उनका समर्थन किया है। केंद्र सरकार का लाभ हमेशा से बिहार को मिलता रहा है। सुशील जी के दिल्ली जाने से इसमें और अच्छा ही हो जाएगा। नीतीश कुमार ने कहा कि सुशील मोदी ने बिहार की बहुत सेवा की है। वह लोकसभा का सदस्य रह ही चुके हैं। अब राज्यसभा के भी सदस्य हो जाएंगे। आगे पार्टी के निर्देश पर बिहार और देश की सेवा करेंगे। अब उम्मीद है कि इनको और काम करने का मौका मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *