यह पूजा पंडाल नहीं, पीएम की रैली की तैयारी है

विमलनाथ झा, दरभंगा। ऊपर की तस्वीर से कतई भ्रम ना पालें। यह किसी पूजा पंडाल के सजावट की तैयारी नहीं है। हो भी नहीं सकती। सरकार ने पूजा पंडाल बनाने पर रोक जो लगा रखी है। इसलिए यह तस्वीर किसी पूजा स्थल के बाहर तोरण द्वार बनने की कतई नहीं है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए यह जरूरी भी था। दो दिन पहले देश के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इससे बचने को और ध्यान रखने को कहा है। कहा है कि ढिलाई नहीं बरती जानी चाहिए। भीड़ नहीं लगनी चाहिए। ऐसे में यह तस्वीर किसकी है? तो जान लीजिए कि यह दरभंगा राज मैदान में 28 अक्तूबर को प्रधानमंत्री की ही चुनावी सभा की तैयारी की है। शायद प्रशासन यह मानता है कि कोरोना वायरस सौ-दो सौ या पांच सौ की भीड़ में ही फैलता है। हजारों-हजार की भीड़ में वह दहशत में आ जाता है क्या? क्या इसीलिए पिछले दिनों नामांकन के दौरान भी पूरे दरभंगा शहर में उमड़े जनसैलाब पर नियंत्रण की कोई कोशिश नहीं की गई थी?

पूरे बिहार में सभी दलों की ओर से अपने-अपने नेताओं की सभाओं में अधिक से अधिक लोगों को जुटाने की होड़ लगी हुई है। जो सरकार में हैं, उनके लिए तो तमाम तरह के इंतजाम हो जाते हैं। लेकिन विपक्षी राजद के नेता तेजस्वी यादव की सभाओं में खुद ही भीड़ जुट जा रही है। ऐसे में सत्तारूढ़ भाजपा-जदयू को अपने करिश्माई नेता की छवि का लाभ तो लेना ही पड़ेगा। सो, इसके लिए मोदी जी की बिहार में 12 रैलियां रखी गई हैं। भाजपा ने अपने तीन दर्जन राज्य स्तरीय नेताओं को सभास्थलों पर तैनात कर दिया है। प्रशासन के अलावा स्थानीय नेता और कार्यकर्ता तो जी-जान लगाए ही हुए हैं। पीएम मोदी की सभी कार्यक्रमों की निगरानी पार्टी के प्रदेश महामंत्री देवेश कुमार को दी गई है। उनके साथ प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन और अनिल शर्मा को भी लगाया गया है। मोदी की पहली चुनावी रैली शुक्रवार को सासाराम, गया और भागलपुर में है। इसके बाद 28 अक्तूबर को दरभंगा, मुजफ्फरपुर और पटना में रैली करेंगे।

बहरहाल, दरभंगा के ऐतिहासिक राज मैदान में तैयारी जोर-शोर से चल रही है। मंच के अलावा लोगों के बैठने के लिए अलग से तीन हैंगर लगाए जा रहे हैं। एक हैंगर 100 गुणा 250 फीट का है बन रहा है। सभास्थल की साज-सज्जा आदि रांची के टेंट हाउस को दी गई है। लोगों से कोरोना वायरस से बचाने के लिए छह फीट की दूरी में घेरा तैयार किया जा रहा है। बता दें कि इस मैदान की क्षमता लगभग 95000 है। इसे कोरोना के कारण घटाकर 10,174 कर दी गई है। दरभंगा सभास्थल की देखरेख हजारीबाग के भाजपा विधायक मनीष जायसवाल के हवाले है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *