अलीनगर से मिश्रीलाल तो केवटी से हरि सहनी वीआईपी प्रत्याशी, गौड़ाबौराम भी भाजपा ने छोड़ी

पटना। विधानसभा चुनाव को लेकर वीआईपी नेता मुकेश सहनी ने दरभंगा जिले में एनडीए गठबंधन में मिली तीन सीटों में से दो पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। अलीनगर विधानसभा क्षेत्र से मिश्रीलाल यादव और केवटी से हरि सहनी को उम्मीदवार बनाया गया है। दोनों को चुनाव चिह्न भी दे दिए गए हैं। हालांकि घोषित दोनों प्रत्याशी भाजपा के ही नेता रहे हैं, जो इस बार वीआईपी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे। वीआईपी को जिले में भाजपा से तीसरी सीट गौड़ाबौराम की मिली है। बता दें कि वीआईपी को भाजपा ने अपने हिस्से की 121 सीटों में से ब्रह्मपुर, बोचहा, गौड़ाबौराम, सिमरी बख्तियारपुर, सुगौली, मधुबनी, केवटी, साहेबगंज, बलरामपुर, अलीनगर और बनियापुर सीटें दी हैं। इन 11 सीटों के अलावा भाजपा ने वीआईपी को एक सीट विधान परिषद की दी है। इस तरह अब भाजपा दरभंगा की कुल दस सीटों में से तीन पर ही चुनाव लड़ेगी। पहले छह सीटें उसके पास थीं। वीआईपी को तीन देने के बाद बाकी बची चार सीटों पर जदयू प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे। जिले में भाजपा के पास जो सीटें रह गईं, वे हैं-दरभंगा शहर, हायाघाट और जाले। जिले में सबसे अधिक चार सीटों पर जदयू के प्रत्याशी इस तरह होंगे- कुशेश्वरस्थान (सु), बेनीपुर, दरभंगा ग्रामीण और बहादुरपुर।

गौरतलब है कि मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी पहले विपक्षी महागठबंधन में थी। मुकेश सहनी ने महागठबंधन में जब सीट बंटवारे को लेकर पटना में एलान हो रहा था, तभी नाराज होकर निकल गए थे। फिर महागठबंधन से नाता तोड़ लेने का एलान कर दिया था। उन्होंने राजद नेता तेजस्वी यादव पर पीठ में छुरा घोंपने का आरोप लगाया था। उनके मुताबिक, तेजस्वी यादव ने उनको डिप्टी सीएम बनाने और सम्माजनक सीटें देने का वादा किया था। लेकिन ऐन वक्त पर वह इससे पलट गए। इसके बाद दिल्ली में भाजपा के केंद्रीय नेताओं से मुलाकात कर बिहार में सत्तारूढ़ एनडीए में शामिल हो गए। यह तय हुआ कि वीआईपी को 11 सीटें जहां भाजपा अपने हिस्से से देगी, वहीं जीतनराम मांझी की हम पार्टी को सात सीटें जदयू के खाते से दी जाएंगीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *