कानपुर के विकास दुबे कांड में 80 पुलिसकर्मियों पर गिरेगी गाज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कानपुर के पास हुए बिकरू आठ पुलिसकर्मियों की हत्या की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने अपनी रिपोर्ट दे दी है। 3200 पन्नों की रिपोर्ट में एसआईटी ने 80 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की है। इनमें पुलिस और प्रशासन के लोग भी। रिपोर्ट में पुलिस और मारे गए कुख्यात अपराधी विकास दुबे के बीच सांठगांठ का इशारा किया गया है।
गौरतलब है कि इसी वर्ष जुलाई में हुए बिकरू कांड की जांच के लिए अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में गठित एसआईटी ने अपनी जांच रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के गृह विभाग को सौंप दी है। रिपोर्ट में एसआईटी ने करीब 36 सिफारिशें की हैं। दोषी अधिकारियों और 80 पुलिसकर्मियों की भूमिकाओं का विस्तार से ब्योरा दिया है। गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद सरकार कार्रवाई करेगी। सूत्रों के अनुसार, जांच में यह भी बात सामने आई है कि पुलिसकर्मी विकास दुबे के लिए मुखबिरी करते थे। घटना की रात विकास को मालूम था कि उसके घर पर पुलिस की छापेमारी होने वाली है। रिपोर्ट में गैंगस्टर विकास दुबे व उसके सहयोगियों को जारी शस्त्र लाइसेंस जारी किए जाने के मामले को गंभीरता से लिया गया है। गौरतलब है कि दो-तीन जुलाई की दरम्यानी रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू में विकास दुबे को पकड़ने जब पुलिस टीम पहुंची, तो उस पर हमला कर दिया गया था। इसमें आठ पुलिस कर्मी मारे गये थे। दुबे 10 जुलाई को पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था और 11 जुलाई को एसआईटी का गठन किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *