किसानों से मिले राजनाथ, चिल्ला बॉर्डर खुला

नई दिल्ली। किसान रविवार सुबह तक दिल्ली को जाने वाले सभी हाईवे को बंद कर देंगे। किसान नेताओं ने बताया है कि इसके लिए उत्तर प्रदेश और राजस्थान से किसानों के जत्थे निकले हुए हैं। किसान नेता कमलप्रीत सिह पन्नू ने कहा कि 14 दिसंबर को सभी मुख्यालयों पर सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक धरना दिया जाएगा। साथ ही अनशन भी करेंगे। इस बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारतीय किसान यूनियन (भानु) के नेताओं से मुलाकात की। इसके बाद किसानों ने दिल्ली-नोएडा के बीच चिल्ली बॉर्डर को देर रात यातायात के लिए खोल दिया। बताया गया है कि राजनाथ सिंह ने किसानों की मांगों को मान लेने का आश्वासन दिया है।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने शनिवार को कहा कि वह प्रदर्शन में किसी असामाजिक तत्व की मौजूदगी से अवगत नहीं हैं। यदि सरकार को ऐसा लगता है, तो उसे ऐसे तत्वों को पकड़ना चाहिए। प्रदर्शनकारी किसानों को अपने मंच का दुरूपयोग नहीं होने देने के प्रति सतर्क करने के केंद्र के अनुरोध के एक दिन बाद टिकैत की यह टिप्पणी आई है। केंद्र ने यह भी कहा था कि कुछ असामाजिक, वामपंथी और माओवादी तत्व आंदोलन का माहौल बिगाड़ने की साजिश कर रहे हैं। टिकैत ने सरकार पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को बदनाम करने की कोशिश करने का आरोप लगाया। हरियाणा भाकियू के अध्यक्ष गुरनाम सिह चढ़ूनी ने कहा कि सरकार नहीं मानी और तीनों कानूनों को वापस नहीं लिया गया तो वे 19 दिसंबर से आमरण अनशन कर सकते हैं। संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य डॉ. दर्शनपाल ने कहा कि राजस्थान और उत्तर प्रदेश के किसान सैकड़ों की संख्या में हाईवे को बंद करने के लिए निकल गए हैं।

इससे पहले दिन में किसानों के मुद्दे पर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की। भेंट के बाद चौटाला ने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि सरकार और किसानों के बीच आपसी सहमति से मुद्दे सुलझा लिए जाएंगे। उम्मीद है कि अगले 24 से 48 घंटों के भीतर किसानों और सरकार के बीच बातचीत होगी और मामले को सुलझा लिया जाएगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *