बिहार में गलत साबित हुए प्रशांत किशोर बंगाल में बीजेपी को दस सीट भी नहीं दे रहे

कोलकाता। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के पश्चिम बंगाल दौरे से सियासी माहौल अचानक गरमा गया है। इस बार मुख्य मुकाबला दस साल से बंगाल की सत्ता पर काबिज तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच है। दो दिन में अमित शाह के बनाए माहौल से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तिलमिला गई है। ऐसे में तृणमूल कांग्रेस के लिए रणनीति बना रहे प्रशांत किशोर का बड़ा बयान आया है। पीके के नाम से मशहूर प्रशांत किशोर का कहना है कि बीजेपी की तरफ से पश्चिम बंगाल में मीडिया मैनेजमेंट का खेल चल रहा है। बीजेपी को सपोर्ट करने वाली मीडिया सच्चाई से दूर रिपोर्टिंग कर रही है। उनके मुताबिक, हकीकत यह है कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी डबल डिजिट यानी दहाई का अंक भी पार नहीं कर पाएगी। प्रशांत किशोर ने बीजेपी को लेकर यह ट्वीट करते हुए दावा किया है यदि बीजेपी ने इससे अच्छा प्रदर्शन किया तो वह चुनावी रणनीति बनाना छोड़ देंगे। इससे संन्यास ले लेंगे। लोग उनके इस ट्वीट को संभाल कर रखें। यदि भाजपा ने बेहतर प्रदर्शन किया तो वह ट्विटर भी छोड़ देंगे।

प्रशांत किशोर के इस दावे पर बीजेपी से भी जवाब आ गया है। पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- ममता बनर्जी ने अभी ट्रेलर देखा है। पूरी फिल्म तो बाकी है। बंगाल में भाजपा की सुनामी है। उन्होंने कहा कि बंगाल चुनाव के बाद देश को एक चुनावी रणनीतिकार खोना पड़ेगा। बीजेपी का यह भी दावा है कि बंगाल की उन सीटों पर भी उसे प्रचंड जीत मिलेगी, जहां अधिकतर वोटर अल्पसंख्यक हैं।

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव के समय भी प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर कुछ ऐसा ही दावा किया था। उन्होंने नीतीश सरकार की वापसी की संभावना से इंकार किया था। लेकिन परिणामों ने उनकी भविष्यवाणी को गलत साबित कर दिया। वैसे पश्चिम बंगाल में तृणमूल का साथ छोड़ने वाले नेताओं ने भी पिछले दिनों प्रशांत किशोर की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए थे। आरोप है कि वह ममता बनर्जी को पूरी तरह से हाईजैक कर चुके हैं और पार्टी में अभिषेक बनर्जी के साथ साथ केवल प्रशांत किशोर की ही चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *