प्रधानमंत्री की शक्ति पूजा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री के शुभेच्छा संदेश का लाइव प्रसारण राज्य की सभी 294 विधानसभा क्षेत्रों के 78,000 पोलिंग बूथ पर सुना और देखा गया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने देशवासियों को दुर्गा पूजा की बधाई दी। कोरोना को लेकर एहतियात बरतने की भी सलाह दी। कहा कि आत्मनिर्भर भारत से शोनार बांग्ला का संकल्प पूरा करना है। उन्होंने कहा कि हमें सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ना है। प्रधानमंत्री ने कहा- मेरा आपसे आग्रह है कि मां दुर्गा की पूजा के साथ दो गज की दूरी, मास्क पहनने सहित सभी नियमों का पालन करें।

मोदी ने कहा- शास्त्रों में कहा गया है, या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। अर्थात, हर जन में मां दुर्गा ही शक्ति रूप से स्थित हैं। हमें इसी भाव से पूरी ताकत से काम करना है। जन-जन तक पहुंचना है। हमारी भावना है की- या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता। यानी, मां दुर्गा ही सभी के साथ लक्ष्मी रूप में रहती हैं। इसलिए हमें सबके सुख के लिए, सबके विकास के लिए काम करना है। हमें सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ना है। भाजपा की केंद्र सरकार ने पूर्वोदय का मंत्र अपनाया है। पूर्वी भारत के विकास के लिए निरंतर फैसले लिए हैं। पूर्वोदय के इस मिशन में पश्चिम बंगाल को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। मुझे भरोसा है कि पूर्वोदय का केंद्र बनकर पश्चिम बंगाल जल्द ही एक नई दिशा की तरफ बढ़ेगा।

उन्होंने बताया कि बंगाल के इनफ्रास्ट्रक्चर के लिए, कनेक्टिविटी सुधारने के लिए भी लगातार काम हो रहा है। कोलकाता में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर परियोजना के लिए भी साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। प्रधानमंत्री जनधन योजना के जरिए बंगाल के लगभग चार करोड़ गरीबों के बैंक खाते खोले गए हैं। इतना ही नहीं, जल जीवन मिशन योजना के जरिए बंगाल के लगभग 4 लाख घरों में पाइप से साफ पानी पहुंचाने का काम हुआ। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं भोलेनाथ की नगरी काशी का सांसद हूं। काशी में मां दुर्गा, माता अन्नपूर्णा के रूप विराजमान हैं। मां के रूप में दुर्गा जी को हमेशा से चिंता रहती है कि उनकी कोई संतान भूखी न रहे, कोई गरीब न रहे। दुष्कर्म की सजा से जुड़े कानूनों को बहुत सख्त किया गया है, दुराचार करने वालों को मृत्युदंड तक का प्रावधान हुआ है। भारत ने जो नया संकल्प लिया है- आत्मनिर्भर भारत के जिन अभियान पर हम निकले हैं, उसमें भी नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है।

देश में आज महिलाओं के सशक्तिकरण का भी अभियान तेज गति से जारी है। चाहे जन-धन योजना के तहत 22 करोड़ महिलाओं के बैंक खाते खोलना हो या फिर मुद्रा योजना के तहत करोड़ों महिलाओं को आसान ऋण देना हो चाहे ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान हो या फिर तीन तलाक के खिलाफ कानून हो। भाजपा के विचार यही हैं, संस्कार यही हैं और संकल्प भी यही है। इसलिए देश में आज महिलाओं के सशक्तीकरण का अभियान तेज गति से जारी है।

मोदी ने कहा, गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर, बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय, शरद चंद्र चट्टोपाध्याय को मैं प्रणाम करता हूं। जिन्होंने समाज को नई राह दिखाई, उन ईश्वरचंद्र विद्यासागर, राजा राम मोहन राय, गुरुचंद ठाकुर, हरिचंद ठाकुर, पंचानन बरमा का नाम लेते हुए नई चेतना जगती है। बंगाल की माटी को अपने माथे से लगाकर जिन्होंने पूरी मानवता को दिशा दिखाई, उन श्री रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, चैतन्य महाप्रभु, श्री अरविंद, बाबा लोकनाथ, मां आनंदमयी को मैं प्रणाम करता हूं। दुर्गा पूजा का पर्व भारत की एकता और पूर्णता का पर्व भी है। बंगाल की दुर्गा पूजा भारत की इस पूर्णता को एक नई चमक देती है, नए रंग देती है, नया श्रृंगार देती है। ये बंगाल की जागृत चेतना का, बंगाल की आध्यात्मिकता का, बंगाल की ऐतिहासिकता का प्रभाव है। पश्चिम बंगाल के मेरे भाइयों और बहनों आज भक्ति की शक्ति ऐसी है, जैसे लग रहा है कि मैं दिल्ली में नहीं लेकिन आज मैं बंगाल में आप सभी के बीच उपस्थित हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *