मोदी बोले- भारतीय टीके के इंतजार में दुनिया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को 16वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का उद्घाटन किया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुए इस कार्यक्रम में सूरीनाम के राष्ट्रपति मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। इस बार के सम्मेलन की थीम है-आत्मनिर्भर भारत में योगदान। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि आज दुनिया के कोने-कोने से हमें भले इंटरनेट से जोड़ा गया है, लेकिन हम सबका मन हमेशा से मां भारतीय से जुड़ा है। आप सभी ने जहां आप रह रहे हैं वहां और भारत में कोविड के खिलाफ लड़ाई में बड़ा योगदान किया है। पीएम केयर्स में दिया गया आपका योगदान भारत में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत कर रहा है। उन्होंने कह कि आज भारत की वैक्सीन का दुनिया को इंतजार है। उन्होंने यह भी बताया कि कोविड-19 के समय में नए टेक स्टार्टअप्स भारत से ही निकल कर आए हैं।

प्रधानमंत्री ने प्रवासी भारतीयों से कहा कि आज भारत का लोकतंत्र सबसे सफल, सबसे जीवंत है। हमारा लोकतंत्र दुनिया के लिए एक उदाहरण बन गया है। दुनियाभर में भारतीय समुदाय के साथ बेहतर कनेक्टिविटी के लिए रिश्ता नाम का नया पोर्टल शुरू किया गया है। इससे मुश्किल समय में अपने समुदाय से संपर्क करना, उन तक पहुंचना आसान होगा। उन्होंने कहा, बीता साल हम सभी के लिए बहुत चुनौतियों का साल रहा है। लेकिन इन चुनौतियों के बीच विश्वभर में फैले भारतीय मूल के साथियों ने जिस तरह काम किया है। अपना फर्ज निभाया है। यह हम सभी के लिए गर्व की बात है। यही तो हमारी मिट्टी के संस्कार हैं। जब भारत ने उपनिवेशवाद के खिलाफ अपना संघर्ष शुरू किया, तो दुनिया के कई देशों ने इससे प्रेरणा ली। जब भारत ने आतंकवाद के खिलाफ अपनी लड़ाई शुरू की, तो दुनिया को इस चुनौती का सामना करने की नई ताकत मिली। आज भारत प्रौद्योगिकी का उपयोग भ्रष्टाचार को हराने के लिए कर रहा है। लाखों और करोड़ों रुपये सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में स्थानांतरित किए जा रहे हैं। आज भारत का अंतरिक्ष कार्यक्रम और टैक्स स्टार्ट-अप इको-सिस्टम वैश्विक क्षेत्र में अग्रणी है।

कोविड-19 के दौरान भी भारत से कई नए यूनिकॉर्न और टेक स्टार्ट-अप शुरू हुए। भारत ने जो नई व्यवस्थाएं विकसित की हैं, उनकी वैश्विक संस्थाओं ने प्रशंसा की है। आधुनिक टेक्नोलॉजी ने गरीब से गरीब को मजबूत करने का जो अभियान आज भारत में चल रहा है उसकी चर्चा विश्व के हर कोने में है, हर स्तर पर है। कोरोना काल में आज भारत दुनिया के सबसे कम मृत्यु दर और सबसे अधिक रिकवरी रेट वाले देशों में है। आज भारत एक नहीं, बल्कि दो मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन के साथ मानवता की सुरक्षा के लिए तैयार है। महामारी के इस दौर में फिर दिखा दिया कि हमारा सामर्थ्य क्या है, हमारी क्षमता क्या है। भारत सरकार हर समय, हर पल आपके साथ, आपके लिए खड़ी है। दुनियाभर में कोरोना लॉकडाउन से विदेशों में फंसे 45 लाख से ज्यादा भारतीयों को वंदे भारत मिशन के तहत लाया गया। विदेशों में भारतीय समुदायों को समय पर सही मदद मिले इसके लिए हर संभव प्रयास किए गए। दुनियाभर में भारतीय समुदाय के साथ बेहतर कनेक्टिविटी के लिए रिश्ता नाम का नया पोर्टल शुरु किया गया है। इस पोर्टल से मुश्किल समय में अपने समुदाय से संपर्क करना, उन तक पहुंचना आसान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *