मथुरा में चलेगा श्रीकृष्ण जन्मभूमि से सटी मस्जिद हटाने का मुकदमा

नई दिल्ली। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि के बाद अब मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला गरमा गया है। श्रीकृष्ण जन्मभूमि प्रांगण से सटी मस्जिद को हटाने की मांग वाली याचिका जिला जज की कोर्ट ने स्वीकार कर ली है। पहले इस याचिका को मथुरा सत्र न्यायालय ने खारिज कर दी थी। अब इस याचिका पर 18 नवंबर को सुनवाई होगी।

मथुरा में श्री कृष्ण जन्मभूमि मामले में जिला जज की अदालत मुकदमा चलेगा। यहां पर श्रीकृष्ण जन्मभूमि प्रांगण से सटी शाही मस्जिद हटाने की मांग पर विपक्षियों को नोटिस जारी होंगे। शुक्रवार को सुनवाई पूरी होने के बाद वादी पक्ष के वकील विष्णु जैन ने दी जानकारी है। बता दें कि श्रीकृष्ण जन्म स्थान मामले में श्री कृष्ण विराजमान और रंजना अग्निहोत्री समेत आठ लोगों की ओर से जिला जज की अदालत में दायर की गई अपील के मामले में विपक्षियों को नोटिस जारी किए जा रहे हैं। पिछले दिनों सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ और शाही मस्जिद ईदगाह कमेटी के बीच 1968 में हुए समझौते को रद कर मस्जिद को हटाने तथा सारी जमीन श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट को सौंपने की मांग की गई थी। 30 सितंबर को सुनवाई के बाद सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत ने यह कहकर दावा खारिज कर दिया था कि भक्तों को दावा दायर करने का अधिकार नहीं है। शुक्रवार को इसी मामले में जिला जज की अदालत में सुनवाई हुई थी। वादी के वकील विष्‍णु शंकर जैन ने कहा कि उनका दावा मजबूत है।

अयोध्‍या में श्रीराम मंदिर निर्माण कार्य के आरंभ होने के बाद मथुरा को लेकर भी सरगर्मी भी बढ़ रही है। गुरुवार को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेंद्र गिरी और हनुमान गढ़ी के महंत धर्मदास, अयोध्या निर्वाणी अखाड़ा के महंत राजेंद्र दास, मथुरा-वृंदावन अखाड़ा के हरिशंकर नागा श्रीकृष्ण जन्मस्थान पहुंचे थे। यहां उन्होंने श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा और सदस्य गोपेश्वर नाथ चतुर्वेदी से मुलाकात की और मंदिर के दर्शन किए। गोपेश्वर नाथ चतुर्वेदी ने बताया कि उन्होंने संतों को मंदिर की नींव पर बनी शाही ईदगाह मस्जिद दिखाई और इस पर चर्चा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *