सीबीआई की कस्टडी से 45 करोड़ का 103 किलो सोना गायब

नई दिल्ली। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में सीबीआई की कस्टडी से 103 किलो सोना गायब होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इसकी कीमत करीब 45 करोड़ रुपये बताई गई है। मामला तब खुला, जब मद्रास हाई कोर्ट ने इसकी जांच तमिलनाडु की सीबी-सीआईडी को सौंप दी।

दरअसल 2012 में सीबीआई ने चेन्नई में सुराना कॉर्पोरेशन के कार्यालय 400.5 किलो सोना जब्त किया था। गायब हुआ सोना इसी में से है। यह सोना सुराना की तिजोरियों और वॉल्ट्स में सीबीआई के तालों के साथ सीलबंद था। सीबीआई का कहना था कि उसने चेन्नई स्थित विशेष अदालत को तिजोरियों और वॉल्ट्स की 72 चाबियां सौंप दी थीं। सीबीआई के मुताबिक, जब जब्ती हुई थी तब सोने की सभी छड़ें एक साथ तौली गई थीं। गड़बड़ी इसलिए हुई कि अब सोने का वजन अलग-अलग किया गया। इस तर्क को न्यायाधीश जस्टिस प्रकाश ने नहीं माना। उन्होंने सीबी-सीआईडी के एसपी रैंक के एक अधिकारी को मामले की जांच सौंप दी। साथ ही कहा कि छह महीने में जांच पूरी होनी चाहिए। हालांकि सीबीआई ने न्यायमूर्ति प्रकाश से कहा कि अगर इस मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी से लेकर स्थानीय पुलिस को दी जाती है तो उसकी प्रतिष्ठा पर असर पड़ेगा। इस पर न्यायमूर्ति प्रकाश ने कहा कि काननू इस तरह के आक्षेप को मंजूरी नहीं देता है। सभी पुलिसकर्मियों पर भरोसा करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *