चीन से दो-दो हाथ होने के संकेत

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में भारत के साथ चल रहे सीमा विवाद सुलझने बाद भी समय के साथ-साथ उलझता ही जा रहा है। भारत को बातचीत में फंसाकर चालाक चीन युद्ध की तैयारी कर रहा है। खुद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने यह बता दिया है। गुआंगडोंग प्रांत के मिलिट्री बेस के दौरे के दौरान उन्होंने अपनी सेना को युद्ध के लिए तैयार रहने का आदेश दिया है। जिनपिंग ने यह बात तब कही है, जब दोनों देशों के बीच कमांडर स्तर की बातचीत चल रही है। दो दिन पहले ही हुई बातचीत में चीन ने जहां भारत से पैंगोंग झील के दक्षिणी हिस्से की चोटियों को पहले खाली करने की बात कही, वहीं भारत ने पूरे पूर्वी लद्दाख में एक साथ डि-एस्‍कलेशन की बात कही। इस पर चीन ने चुप्पी साध ली। चीन की इस पैंतरेबाजी में नहीं फंसते हुए भारतीय सेना भी पूरी तरह तैयार है। यही कारण है कि इस बार सर्दियों में भी लद्दाख में भारतीय जवान तैनात रहेंगे। रक्षा मंत्रालय 24 घंटे अलर्ट रह रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद भी जब-तब रिपोर्ट तलब कर रहे हैं। रक्षा सूत्रों के मुताबिक, एक-हफ्ते में चीन के साथ भारत छिटपुट ही सही, लेकिन दो-दो हाथ करने वाला है। अगर ऐसा हुआ तो बिहार विधानसभा के बीच देश का माहौल गर्मा सकता है।

दरअसल भारत द्वारा चीन से लगे सात राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 44 नए पुल बनाने से वह बौखलाया हुआ है। बौखलाहट में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ लिजिन ने कहा कि हम लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश के रूप में मान्यता नहीं देते हैं। चीन इस क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के निर्माण का विरोध करता है। चीनी प्रवक्ता ने कहा कि किसी भी पक्ष को इलाके में ऐसा कोई कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे स्थिति जटिल हो जाए। प्रवक्ता ने अरुणाचल प्रदेश को भी भारतीय क्षेत्र के रूप में मान्यता न देने की बात दोहराई। बता दें कि भारत के साथ लगे सीमाई क्षेत्र में चीन पहले ही बुनियादी ढांचे का निर्माण कर चुका है।

One thought on “चीन से दो-दो हाथ होने के संकेत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *