राहुल को ओबामा ने कम योग्यता वाला छात्र बताया

नई दिल्ली। दूर का ढोल सुहाना होता है। लेकिन यही बात कांग्रेस के लिए नहीं कही जा सकती है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के लिए दूर से अच्छी खबर नहीं आई है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी किताब में उनके बारे में कुछ ऐसी बातें लिखी हैं, जो उन्हें और उनकी पार्टी को असहज करेंगी। ओबामा ने राहुल गांधी को नर्वस करार दिया है। अपनी किताब ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में लिखा है- “राहुल गांधी में एक ऐसे नर्वस और अपरिपक्व छात्र के गुण हैं, जिसने अपना होमवर्क किया है और टीचर को प्रभावित करने की कोशिश में है। लेकिन गहराई से देखें तो उनमें योग्यता की कमी है और किसी विषय पर महारत हासिल करने के जुनून में भी कमी है। यह राहुल की कमजोरी है। ” जाहिर है, बिहार विधानसभा चुनाव के साथ कई राज्यों में हुए उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस के लिए इस पर जवाब देना भारी पड़ रहा है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता संबित पात्रा ने तंज कसते हुए कहा, ‘नर्वस और कम गुणवत्ता वाला। बोलो कौन?’ जबकि भाजपा सांसद गिरिराज सिंह ने कहा, ‘राहुल गांधी की जैसे ही देश में बेइज्जती कम होने लगती है, विदेश से बेइज्जती करा लेते हैं।’

बता दें कि अमेरिका में ओबामा जब राष्ट्रपति थे तब, राहुल गांधी कांग्रेस के उपाध्यक्ष थे। ओबामा जब भारत आए थे, तब राहुल गांधी उनसे मिले थे। इसके बाद ट्वीट कर उन्होंने कहा था कि ओबामा से मुलाकात शानदार रही। किताब में उन्होंने राहुल गांधी के अलावा सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का भी जिक्र किया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के लिए लिखा है, “हमने चार्ली क्रिस्ट और राहम इमैनुएल जैसे पुरुषों की हैंडसमनेस की बात की, लेकिन महिलाओं की खूबसूरती की चर्चा नहीं की। सिवाय एक या दो मामलों के। जैसे कि सोनिया गांधी।” वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बारे में कहा कि उनमें एक भावशून्य ईमानदारी है, जो उन्हें अलग बनाती है। गौरतलब है कि जब टाइम मैग्जीन ने 2015 में सौ सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शामिल किया था, तब ओबामा ने टाइम मैग्जीन में लिखे आर्टिकल में मोदी को भारत के रिफॉर्मर-इन-चीफ बताया था। लिखा था कि गरीबी से लेकर प्रधानमंत्री तक का उनका सफर ऐसा है, जिसमें भारत की तरक्की का जोश और संभावनाएं नजर आती हैं।

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति की यह किताब उनके निजी जीवन की तुलना में उनके राजनीतिक रुख पर अधिक केंद्रित है। इसमें उन्होंने राजनीति में अपने शुरुआती दिनों से लेकर पाकिस्तान के एबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के खात्मे तक के बारे में लिखा है। दुनिया भर के लगभग सभी बड़े नेताओं के लिए अपनी राय लिखी है। किताब में लिखा है- रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन उन्हें एक सख्त और स्मार्ट बॉस की याद दिलाते हैं। ओबामा ने अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति और वर्तमान में राष्ट्रपति का चुनाव जीतने वाले जो बाइडन को एक सभ्य व्यक्ति बताया है। अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति और इस बार राष्ट्रपति चुनाव जीतने वाले जो बाइडन के बारे में लिखा है कि वह सज्जन, ईमानदार और वफादार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *