माली में अलकायदा आतंकियों पर फ्रांस का कहर, 50 जिहादी ढेर

नई दिल्ली।फ्रांस ने पश्चिम अफ्रीकी देश माली में हवाई हमला करते हुए अलकायदा के 50 जिहादियों को मार डाला। यह जानकारी फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली ने मंगलवार को दी। यह हमला बुर्किना फासो, नाइजर और नाइजीरिया की सीमा के करीब किया गया। हमला तब किया गया, जब आतंकी समूह में मोटर साइकिलों पर सवार होकर जा रहे थे। हमले के बाद चार आतंकियों को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान भारी मात्रा में हथियार भी बरामद हुए हैं।

फ्रांसीसी सेना ने यह हवाई हमला इस्लामिक आतंकवाद से जूझ रहे माली की मदद के लिए किया। सेना के प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों का यह ग्रुप सैनिकों के एक अड्डे पर हमला करने जा रहा था। बरामद किए गए हथियारों में आत्मघाती हमले के दौरान उपयोग में लाई जाने वाली जैकेट्स भी है। बता दें कि फ्रांस में हाल ही में हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं। 16 अक्टूबर को शिक्षक सैमुअल पैटी को 18 साल के मुस्लिम अप्रावासी अब्दुल्लाह ने पेरिस के पास एक स्कूल के अंदर मार डाला था। इसके बाद ट्यूनिशियाई व्यक्ति ने नीस शहर में चर्च में एक महिला समेत तीन लोगों की हत्या कर दी थी। इसके बाद एक पादरी गंभीर रूप से घायल हुआ था। फ्रांस के बाद वियना में आतंकी हमला हुआ। इसमें तीन लोगों की मौत हुई। आतंकियों ने छह स्थानों पर हमला किया था। फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि हमारे मित्र देश पर हमला हुआ है। हम झुकेंगे नहीं। हमारे दुश्मनों को पता होना चाहिए कि वे किसके खिलाफ लड़ रहे हैं।

इससे पहले नाइजर के राष्ट्रपति महामदौ इस्सौफौ और रक्षा मंत्री इस्सौफौ कटाम्बे से मुलाकात के बाद फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले ने कहा, ‘यह ऑपरेशन तब शुरू किया गया जब एक ड्रोन ने इस क्षेत्र में मोटर साइकिलों का एक बड़ा कारवां देखा।’ पार्ले ने कहा, ड्रोन से बचने के लिए जिहादी पेड़ों के नीचे छिपने की कोशिश कर रहे थे। तभी फ्रांसीसी जांबाजों ने दो मिराज लड़ाकू विमान और मिसाइल लांच करने वाले एक ड्रोन को भेजा। पार्ले के मुताबिक, यह हमला अल-कायदा के आतंकी गुट अंसार-उल-इस्लाम के लिए बड़ा झटका साबित हुआ है। इसका नेता इयाद अग घाली है। जून में माली में फ्रांसीसी सेना द्वारा मारे गए अल-कायदा कमांडर अब्देलमलेक ड्रूकडेल की मौत के बाद से घाली साहेल में एक शीर्ष जिहादी नेता के रूप में उभरा है। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र ने माली में अपने शांति मिशन के एक हिस्सा के रूप में 13 हजार सैनिकों की तैनाती की है। वहीं, फ्रांस ने साहेल क्षेत्र में 5,100 जवानों की तैनाती की है। बता दें, पश्चिम अफ्रीकी देश माली 2012 में देश के उत्तर में उभरे एक क्रूर जिहादी विद्रोह को रोकने के लिए बीते आठ साल से संघर्ष कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *