रक्षा मंत्री से दरभंगा एयरपोर्ट को वायुसेना की अड़ंगेबाजी से मुक्ति दिलाने की गुहार

दीपक कुमार झा, दरभंगा। दरभंगा के सांसद गोपालजी ठाकुर ने शनिवार को दिल्ली में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। इस दौरान दरभंगा एयरपोर्ट को लेकर एयरफोर्स से संबंधित विषयों पर चर्चा हुई। रक्षा मंत्री को बताया गया कि एयरपोर्ट के लिए 31 एकड़ जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एयरफोर्स की अनुमति जरूरी है। इसमें उसे शीघ्र अनुमति देने को कहा जाए, ताकि एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को 31 एकड़ जमीन मिल सके। सांसद ने एयरपोर्ट के रनवे पर एप्रोच लाइट लगाने के लिए एयरफोर्स और रक्षा मंत्रालय से तत्काल अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) दिलाने का भी आग्रह किया। ताकि विमानों के परिचालन की संख्या बढ़ने और एयरपोर्ट पर रात्रि आवागमन के क्रम में किसी प्रकार की कोई कठिनाई ना हो। साथ ही कम रोशनी में भी विमान को उतारने की समस्या का समाधान हो सके। गौरतलब है कि पिछले दिनों खराब मौसम के कारण कई बार फ्लाइट को कैंसिल करना पड़ा था।

सांसद ने कहा कि 11 जनवरी से दरभंगा- अहमदाबाद, 18 जनवरी से दरभंगा-हैदराबाद और दरभंगा-पुणे के लिए भी सीधी हवाई सेवा शुरू हो जाएगी। दरभंगा एयरपोर्ट पर विमानों की संख्या बढ़ेगी। यात्री भी बढेंगे। ऐसे में दरभंगा एयरपोर्ट की अपार संभावनाओं को देखते हुए आने वाले कुछ दिनों में रात्रि आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराना अतिआवश्यक है। इसके लिए रनवे पर एप्रोच लाइट लगाना भी जरूरी है, ताकि एयरपोर्ट पर 24 घंटे विमान परिचालन में किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न ना हो। वर्तमान में दरभंगा एयरपोर्ट पर एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) वॉच ऑवर सुबह 7:30 बजे से सूर्यास्त के 30 मिनट पहले तक ही उपलब्ध है। उन्होंने एयरपोर्ट से 24 घंटे विमान परिचालन के क्रम में एटीसी वॉच ऑवर बढ़ाने का भी आग्रह किया, ताकि बिना किसी बाधा के दिन-रात विमानों का परिचालन हो सके। श्री ठाकुर ने कहा कि एयरपोर्ट से जुड़े अन्य विषयों पर रक्षा मंत्रालय द्वारा स्वीकृति और अनापत्ति पत्र देने के साथ केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के कैंप को दरभंगा में स्थापित करने का भी आग्रह किया। इसलिए कि एयरपोर्ट के विस्तार के साथ इसकी सुरक्षा सीआईएसएफ द्वारा ही की जानी है। उन्होंने कहा कि सभी समस्याओं से अवगत होते हुए रक्षा मंत्री ने यथाशीघ्र निदान का आश्वासन दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *