भगतई में हुई थी फुलकाही के अर्जुन की हत्या

केवटी (दरभंगा)। रैयाम थाने के फुलकाही पोखरटोल निवासी रवि शर्मा के इकलौते नाबालिग पुत्र अर्जुन शर्मा की हत्या की गुत्थी सुलझ गई है। यह दावा पुलिस ने किया है। हत्या के आरोप में उस महिला के पति को गिरफ्तार किया गया है, जिसने अगस्त में रातभर थाने में रहकर लौटने के बाद संदिग्ध अवस्था में मरी हुई पाई गई थी। पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार हुआ फुलकाही के बढ़ई टोल निवासी नारायण शर्मा के पुत्र रामदेव शर्मा ने हत्या करने की बात मान ली है। वजह बताई भगतई। यानी झाड़-फूंक में सिद्धि पाने के लिए उसने पत्नी के साथ मिलकर  उक्त घटना को अंजाम दिया।

गौरतलब है कि छह अगस्त की शाम करीब साढ़े चार बजे शौच के लिए घर से निकला अर्जुन वापस नहीं लौटा था। काफी देर तक खोजने पर भी वह नहीं मिला। अगले दिन यानी सात अगस्त को उसका शव घर से करीब दो सौ मीटर दूर जयनारायण झा के जलावन घर में मिला था। उसकी हत्या गला रेत कर की गई थी। दोनों आंखें भी फोड़ दी गई थीं। कोई सुराग नहीं मिलने पर पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों के साथ-साथ 20 अगस्त को रामदेव शर्मा को हिरासत में लेकर पूछताछ की। उसकी पत्नी आभा देवी को भी तब हिरासत में लिया गया था। लेकिन 22 अगस्त को संदिग्ध अवस्था में उनका शव मिला। बताया गया कि आभा देवी ने खुदकुशी कर ली। इससे स्थानीय स्तर पर काफी विरोध प्रदर्शन हुआ। इतना ही नहीं, मामले में लापरवाही बरतने को लेकर एसएसपी ने थानाध्यक्ष को निलंबित भी कर दिया था। बावजूद इसके, मामले से रहस्य का पर्दा नहीं उठ रहा था। नए थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह के आने से जांच में तेजी आई। ऐसी कि जिस रामदेव शर्मा को पुराने थानाध्यक्ष ने हिरासत में लिया था, उससे फिर पूछताछ की गई। इस बार उसने सब कुबूल कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *